Header ad
Breaking News

शादी में 250 को बुला लिया, दूल्हे के दादा की कोरोना से मौत,मां,चाचा, सहित 16 पॉजिटिव

राजस्थान: 29 जून, कोरोना से लड़ने में भीलवाड़ा मॉडल की काफी तारीफ हुई थी.कोरोना की वजह से शादी-ब्याह और अंतिम संस्कार जैसे कार्यक्रमों में शामिल होने वाले लोगों की संख्या सीमित कर दी गई है.राज्यों ने इसके लिए अलग-अलग नियम बनाए हैं.राजस्थान में शादी में 50 और अंतिम संस्कार में 20 लोग ही शामिल हो सकते हैं.लेकिन भीलवाड़ा में एक शादी में 250 लोगों को बुला लिया गया.नतीजा ये हुआ कि 16 लोगों को कोरोना हो गया.दूल्हे के दादा की कोरोना से मौत हो गई.मामला सामने आने के बाद दूल्हे के पिता पर 6,26,600 रुपये का जुर्माना लगाया गया है.यह पैसा कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों की देखभाल और इलाज पर खर्च होगा.
13 जून को शादी, 6 दिन बाद दादा को कोरोना
एक खबर के अनुसार,घटना भीलवाड़ा के भदादा मोहल्ले की है.यहां पर 13 जून को शादी थी.जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने बताया कि शादी के लिए 50 लोगों के लिए अनुमति ली गई थी.लेकिन 250 लोगों को बुलाया गया.19 जून को एक बुजुर्ग कोरोना पॉजिटिव पाए गए.ये दूल्हे के दादा थे.21 जून को दूल्हे की मां,चाचा,फूफा और पिता की बुआ को भी कोरोना हो गया.
इसके बाद 22 जून को सात और 24 जून को एक और व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला.26 जून को दूल्हे की दादी और चचेरे भाई को भी कोरोना हो गया.आशंका है कोरोना पॉजिटिव लोगों का आंकड़ा बढ़ सकता है.बारात में शामिल हुए 127 लोगों को क्वारंटीन किया गया है.वहीं दूल्हा,दुल्हन समेत 17 लोग कोरोना जांच में नेगेटिव आए हैं.
जुर्माने के पैसे इलाज और देखभाल में होंगे खर्च
जिला कलेक्टर ने बताया कि शादी में तय संख्या से ज्यादा लोग बुलाने पर जुर्माना लगाया गया है.जुर्माना दूल्हे के पिता पर लगा है.इसके लिए नोटिस भेजा गया है.तीन दिन में पैसा मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने को कहा है.यह पैसा क्वारंटीन सुविधा और कोरोना के मरीजों के इलाज पर खर्च होगा.कहा गया है कि आगे भी इलाज पर जो खर्च आएगा,उसे जुर्माना के रूप में दूल्हे के परिवार से वसूला जाएगा.साथ ही दूल्हे के पिता पर सुभाष नगर थाने में एफआईआर भी कराई गई है.प्रशासन ने एपिडेमिक एक्ट के तहत यह कार्रवाई की है.
कोरोना से लड़ने में कारगर रहा था भीलवाड़ा मॉडल
कोरोना से लड़ाई में भीलवाड़ा मॉडल की काफी तारीफ हुई थी.यहां पर मार्च में कोरोना के कई मामले सामने आए. इसके बाद पूरे जिले को लॉकडाउन कर दिया गया था.घर-घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग की गई थी.कोरोना पॉजिटिव मरीजों की बेहतर तरीके से ट्रेसिंग की गई.इसके बाद जिले में कोरोना के मामलों में कमी दर्ज की गई थी.मई महीने तक यहां पर हालात सामान्य हो गए.कोरोना के छिटपुट मामले ही सामने आ रहे थे.लेकिन इस शादी की वजह से एक बार फिर केस बढ़ गए.

About The Author

Related posts